प्रतिबंधित प्रजाति की मछलियां थाई मांगुर एवं बिग हेड की बिक्री के रोकथाम हेतु मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य ने मारा छापा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 20 February 2021

प्रतिबंधित प्रजाति की मछलियां थाई मांगुर एवं बिग हेड की बिक्री के रोकथाम हेतु मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य ने मारा छापा

ब्यूरो हंसराज शर्मा बलरामपुर रिपोर्ट सुनील कुमार पांडे

प्रतिबंधित प्रजाति की मछलियां थाई मांगुर एवं बिग हेड की बिक्री के रोकथाम हेतु मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य ने मारा छापा

बलरामपुर -- मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य रेवती रमण ने बताया कि आज दिनांक 20 फरवरी 2020 को उतरौला , हिसामपुर ,पकड़ी बाज़ार  और रेहरा बाज़ार की मछली मंडियों में छापेमारी की गई । जिसमें भारी मात्रा में प्रतिबंधित प्रजाति की मछलियां थाई मांगुर एवं बिग हेड की बिक्री पाई गई । मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य ने समस्त प्रतिबंधित मछलियों को नष्ट कराते हुए मत्स्य विक्रेता ओमप्रकाश , पप्पू ,आलोक ,सोनू ,सलमान आदि को पुनः इस प्रजाति की मछली न बेचने की चेतावनी दी ।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य ने बताया कि थाई मांगुर एवं बिग हेड प्राजाति के मछलियों का पालन , विपणन आदि पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है । थाई मांगुर कैटफ़िश प्राजाति की मछली है , जिसमे भारी मात्रा में लेड पाया जाता है , जो ब्रेन कैंसर का कारक है । साथ ही ये मछलियां देशी मांसाहारी प्रकृति की होती है जो भारतीय प्राजाति की मछलियों के लिए खतरा है ।साथ ही इन मछलियों को लोग स्लाटर हाउस के सड़े गले मांस को खिला देते है , जिसे जल प्रदूषण उत्पन्न होता  है अतः ये मछलियां पर्यावरण के लिए भी हानिकारक है , जिससे पारिस्थितिकीय असंतुलन का खतरा है ।छापेमारी में मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य के साथ मत्स्य विकास अधिकारी बृजेश यादव भी मौजूद रहे ।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।