रुधौली ब्लाक परिसर के सामुदायिक शौचालय में लग रही द्वितीय दर्जे की ईंट - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 15 February 2021

रुधौली ब्लाक परिसर के सामुदायिक शौचालय में लग रही द्वितीय दर्जे की ईंट

मोहित गुप्ता बस्ती रूधौली

रुधौली ब्लाक परिसर के सामुदायिक शौचालय में लग रही द्वितीय दर्जे की ईंट

ठेकेदार बोला जब भुगतान के लिए देना होता है कमीशन तो कहां से होगा सही काम?
● निर्माणाधीन सामुदायिक शौचालय की गुणवत्ता के सवाल पर ठेकेदार ने खोली विकास कार्य में धांधली की पोल 

रुदौली बस्ती । महंगाई के इस दौर में पंद्रह हजार में मिलने वाले अव्वल दर्जे की ईंट का भुगतान जब सरकारी दाम 13,500 रुपए के हिसाब से होगा तो गुणवत्तापूर्ण निर्माण कैसे होगा? और तो और विकास खंड के अधिकारियों व कर्मचारियों को हस्ताक्षर के लिए कुल लागत का लगभग 15% कमीशन देना पड़ता है ऐसे में सरकार गुणवत्तापूर्ण निर्माण की उम्मीद कैसे कर सकती है? यह कहना है विकासखंड में बन रहे सामुदायिक शौचालय का निर्माण करा रहे ठेकेदार का...
बुधवार को रुधौली विकासखंड मुख्यालय पर जब तहकीकात न्यूज के रिपोर्टर ने विकासखंड मुख्यालय पर बन रहे सामुदायिक शौचालय की गुणवत्ता पर सवालिया निशान खड़े किए तो ठेकेदार ने पहले तो जवाब देने में हीला हवाली की लेकिन आखिर में सवालों के सैलाब से टूट कर उसने विकास कार्यों के सच की पोल खोल ही दी, नाम पता अज्ञात रखने की शर्त पर उन्होंने बताया कि विकास खंड कार्यालय पर बिना कमीशन दिए किसी भुगतान का होना असंभव है। इतना ही नहीं विकासखंड के बाद जिलामुख्यालय पर भी विकास खंड से संबंधित अधिकारियों को निर्माण कार्यों के भुगतान के लिए कमीशन देना पड़ता है और तो और निर्माण कार्य में लगने वाली सामग्रियों का भुगतान पीडब्ल्यूडी द्वारा निर्धारित किए गए मूल्यों पर होता है जो बाजार में के दामों से कहीं कम है। बताया 15 हजार में मिलने वाली ईंट का भुगतान मात्रा 13,500 रुपये 400में मिलने वाली सीमेंट की एक बोरी का भुगतान तीन सौ से 320 रु की दर से होता है। अब उसी में खुद का परिवार भी पालना है और भुगतान के लिए विभाग को कमीशन देना होता है। ऐसे में सरकार या विभाग गुणवत्तापूर्ण निर्माण की उम्मीद कैसे कर सकता है? अब सवाल यह है कि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने का दावा करने वाली वाली सरकार क्या वाकई में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा पा रही है शायद नही खैर इस संबंध में खंड विकास अधिकारी विमला चौधरी का कहना है कि  ठेकेदार द्वारा लगाए गए आरोप पूरी तरह से गलत है मेरे ब्लाक पर भुगतान के लिए उसने किस कर्मचारी या अधिकारी को कमीशन दिया है इसकी शिकायत मुझे या जिले पर लिखित करे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।