जानिए कोयला के चूल्हा पर खाना बनाकर क्यों करना पड़ा प्रदर्शन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 3 March 2021

जानिए कोयला के चूल्हा पर खाना बनाकर क्यों करना पड़ा प्रदर्शन

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

जानिए कोयला के चूल्हा पर खाना बनाकर क्यों करना पड़ा प्रदर्शन

वाराणसी 3 मार्च, लगातार देश में बढ़ रहे पेट्रोल डीजल एवं घरेलू गैस के मूल्य में वृद्वी को जनहित में तत्काल कम करने की मांग को लेकर उ०प्र० उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल (कंछल गुट)के वाराणसी मंडल के अध्यक्ष एवं प्रमुख उधमी विजय कपूर एवं मंडल महासचिव मुकेश जायसवाल के नेतृत्व में मैदागिन स्थित  भारतेंदु पार्क में सरकार का ध्यान आकृष्ट करने हेतु व्यंग्यात्मक रूप से पुराने पद्धति के तर्ज पर कोयला के चूल्हा पर चाय एवं खाना बनाकर विरोध-प्रदर्शन किया गया। उपरोक्त अवसर पर बोलते हुए मंडल अध्यक्ष विजय कपूर एवं मंडल महासचिव मुकेश जायसवाल ने कहा कि घरेलू गैस में जिस तेजी से वृद्धी किया जा रहा है। उससे आम जनमानस में आक्रोश व्याप्त हो रहा है। एक तरफ कोरोना महामारी के चलते लोगों की आय में गिरावट देखने को मिल रही है। तो वहीं दूसरी तरफ महंगाई ने जनता की चुनौतियों को और बढ़ा दिया है। घरेलू गैस मे लगातार बढ़ते हुए दामों ने जहां एक तरफ जनता की जेब पर बोझ डाल रखा है। वही आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया की कहावत चरितार्थ हो रही है। कोरोना महामारी से दो-चार होते हुए देश की जनता को इस वक्त महंगाई की दोहरी मार भी झेलनी पड़ रही है। रसोई गैस की कीमतों में एक हफ्ते में तीसरी बार बढ़ोतरी की गई है। जबकि इसमे 1 दिसंबर से अब तक ₹225 की भारी वृद्धी हो चुकी है। एलपीजी के दामों में आए उछाल ने तो जनता की परेशानी को और भी बढ़ा दिया है। पिछले 2 महीने में छठी बार इसके दामों में बढ़ोतरी की गई है। जिसका असर अब लोगों की थाली में भी दिखाई देने लगा है। वाराणसी दौरे पर आए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के हास्य पद बयान की घरेलू गैस के दाम ठंड के वजह से बढ़ रहे हैं ने ईंधन कंपनियों के मनोबल को और बढ़ावा दिया जिसके कारण बयान के दूसरे दिन ही घरेलू गैस में ₹25 की और बढ़ोतरी की गई। मध्यम श्रेणी से लेकर आम जनता के पास अब सरकार से गुहार लगाने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से विजय कपूर, मुकेश जायसवाल, नंदकुमार टोपी वाले, चंद्र शेखर चौधरी, अनिल केसरी, प्रदीप गुप्त, अशोक गुप्ता, राजेश केसरी, डॉ मनोज यादव, सुनील अहमद खान, पंकज पाठक, राजेश श्रीवास्तव विकास जायसवाल पप्पू यादव, सहित कई लोग शामिल थे

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।