डीएम ने रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से किया 10 नाविक मल्लाहों का सम्मान - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 3 March 2021

डीएम ने रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से किया 10 नाविक मल्लाहों का सम्मान

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

डीएम ने रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से किया 10 नाविक मल्लाहों का सम्मान


वाराणसी। जिलाधिकारी कैम्प कार्यालय में डीएम श्री कौशल राज शर्मा ने रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से 10 नाविकों का सम्मान किया। विगत 2 माह पूर्व भदैनी घाट के सामने गंगा नदी में नाव पलटने से 4 लोगों की मृत्यु हुई थी, वहीं 7 अन्य व्यक्तियों को स्थानीय नाविक मल्लाहों ने अपने साहस का परिचय देते हुए गंगा नदी में डूबने से बचा कर उनकी प्राण की रक्षा की। आज आयोजित एक सम्मान समारोह में डीएम श्री कौशल राज शर्मा ने गंगा नदी में डूबने से लोगों की जान बचाने वाले 10 नाविकों को अंगवस्त्रम पहना कर सम्मानित किया और रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से प्रत्येक को रुपया 2000 की पुरस्कार राशि दिया।
  सभी दस नाविक मल्लाहों गिरधारी लाल, अनूप साहनी, विष्णु साहनी, संतोष साहनी, मोनू साहनी, नाटे साहनी, राजेन्द्र साहनी, संजू साहनी, सरोज साहनी व नाटे उर्फ श्यामसुंदर को रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से प्रशस्ति पत्र भी दिया गया। 
जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा ने सम्मान समारोह में उदबोधन करते हुए कहा कि काशी में नाविक लोग अथक परिश्रम करते हुए पर्यटकों को सैर कराकर माँ गंगा की सेवा जैसा पूण्य कार्य तो करते ही हैं, वहीं गंगा नदी में नाव पलटने जैसी आपदा में अपनी जान की बाजी लगाकर डूबने वाले व्यक्तियों की प्राणरक्षा कर नाविकों ने अनुकरणीय मिसाल पेश किया है, जिसके लिए ये प्रशंसा के साथ ही सम्मान के हकदार हैं।
 कार्यक्रम का संचालन रेडक्रॉस सचिव डॉ संजय राय ने किया।
 सम्मान समारोह में पुरष्कृत होने वाले सभी 10 नाविकों सहित रेडक्रॉस सचिव डॉ संजय राय, विजय शाह, वेदमूर्ति शास्त्री व अन्य रेडक्रॉस सदस्य मौजूद थे ।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।