नेतृत्व ही किसी राष्ट्र की दशा और दिशा तय करता है' - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 13 March 2021

नेतृत्व ही किसी राष्ट्र की दशा और दिशा तय करता है'

मोहित गुप्ता बस्ती रूधौली

नेतृत्व ही किसी राष्ट्र की दशा और दिशा तय करता है'
राजकीय महाविद्यालय पर दांडी यात्रा के 75 वीं वर्षगांठ पर गोष्ठी 

बस्ती रुधौली।  शुक्रवार को राजकीय महाविद्यालय रुधौली, बस्ती  में  दांडी मार्च प्रारम्भ होने की वर्षगांठ से 25 दिवसीय आयोजन के सम्बंध में अमृत महोत्सव के रूप में 'राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय धर्म' नामक विषय पर अपरान्ह 12:30 बजे  एक संगोष्ठी का आयोजन गया। महाविद्यालय रुधौली में प्राचार्य डॉ.राजेश कुमार शर्मा द्वारा कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की गई जिसमें गीता यादव, रेनु, गोरखनाथ, दीपक आदि छात्र/छात्राओं ने अपने विचार व्यक्त किए।राजनीतिशास्त्र की विभागाध्यक्ष डॉ.अंकिता मद्धेशिया ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष में राष्ट्रवाद ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। केवल एक जगह एक साथ रहने से या एक समुदाय के होने से राष्ट्रवाद नही होता, राष्ट्रवाद एक ऐसी भावना है जो हम राष्ट्र के प्रति निष्ठा रखते हैं,जो हमारी साहचर्य संस्कृति है, इतिहास है, साहचर्य विरासत है, जो हम एकता की भावना वही राष्ट्रवाद है। उन्होंने बताया कि अगर राष्ट्रीयता की भावना हमारे अंदर है तो हम राष्ट्र के प्रति अपनी निष्ठा प्रदर्शित कर सकते हैं जब तक राष्ट्रवाद की भावना हमारे अंदर नही आएगी तब तक हम संघर्ष की शुरुआत नही कर सकते। 
           समस्त कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के रूप में इतिहासविज्ञ एवं प्राचार्य डॉ.राजेश कुमार शर्मा ने शीर्षक पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारत का स्वाधीनता संघर्ष विषा के अन्य देशो के स्वाधीनता संघर्ष से भिन्न है। इस स्वतंत्रता संघर्ष में अनेकों वर्गों, जातियों, समूहों, धर्मो आदि के लोगों ने हिस्सा लिया और यह संघर्ष कई चरणों में होता हुआ अपने लक्ष को प्राप्त करने में सफल हुआ। भारत के स्वाधीनता संघर्ष ने ही दुनिया को गाँधीवादी विचारधारा से अवगत कराया। गाँधी जैसे सरल व्यक्ति ने डांडी यात्रा के माध्यम से भारत में एक स्वतः स्फूर्त आंदोलन की शुरुआत की।  शर्मा ने देशभक्ति और  सूक्ष्म अंतर को भी स्पस्ट किया। भारत के इन सैकड़ो सपूतो के त्याग, वलिदान और संघर्ष से प्रेरित होकर अपने राष्ट्र की उन्नति और सुरक्षा के लिए सदैव सजग और प्रयत्नशील रहना चाहिए।
       हिंदी की विभागाध्यक्ष डॉ.शैलजा पांडेय ने कार्यक्रम को आकर्षक बनाते हुए शानदार संचालन किया।  समाजशास्त्र के विभागाध्यक्ष डॉ.जगदीश प्रसाद ने कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापकगण विशेष अतिथि अनमोल सिंह कर्मचारी मनीष सिंह, महेंद्र सिंह, तथा समस्त छात्र/छात्राएँ अजय, गोरखनाथ, रेनु, पूजा, रोशनी, राजेन्द्र, सुमन, हरिकेष, दीपक सहित समस्त उपस्थित रहें।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।