बलिया-आइए जाने, बलिया में वार्ड नंबर- 42 से जिला पंचायत के प्रत्याशी को कैसे जबरन चुनाव हराया गया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 8 May 2021

बलिया-आइए जाने, बलिया में वार्ड नंबर- 42 से जिला पंचायत के प्रत्याशी को कैसे जबरन चुनाव हराया गया

 


बलिया- सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की ओर से वार्ड नंबर -42 से मंजू सिंह यादव जिला पंचायत के प्रत्याशी थी। मंजू सिंह यादव का आरोप है कि मुझे आरओ, नगर मजिस्ट्रेट और सदर उपजिला मजिस्ट्रेट ने मिलकर जबरन चुनाव हराया।

मंजू सिंह यादव के पक्ष से अशोक यादव का कहना है कि मंजू सिंह यादव को 5850 वोट मिला था जबकि हमारे प्रतिद्वंदी रंजू यादव को 5729 वोट मिला था। इस तरह से मंजू सिंह यादव को 121 वोटों से विजई घोषित किया गया था। जीते हुए प्रत्याशियों की लिस्ट में फोटो के साथ ही मंजू सिंह यादव नाम भी छपा था। सभी जीते हुए प्रत्याशियों को जीत का प्रमाण पत्र दिया गया लेकिन आरओ द्वारा सिर्फ वार्ड नंबर- 42 से जीती हुई प्रत्याशी मंजू सिंह यादव का प्रमाण पत्र रोक दिया गया। यह सारा काम समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष राजमंगल यादव, नारद राय ,संग्राम सिंह यादव, बंशीधर यादव के इशारों पर हुआ।

मंजू सिंह यादव का आरोप है कि 1. कलेक्ट्री परिसर में नारद राय ने  मेरी 121 वोटों से जीत दर्ज करने के बाद आरओ क्यों घेरा?
2. जीते हुए सभी प्रत्याशियों को प्रमाण पत्र दिया गया लेकिन मेरा ही केवल प्रमाण पत्र क्यों रोक दिया गया?
3. मुझे प्रमाण पत्र देने के लिए अगले दिन क्यों बुलाया गया जबकि सबको प्रमाण पत्र मिल चुका था?
4. मुझे प्रमाण पत्र देने से पहले बड़ी संख्या में प्रशासनिक व्यवस्था क्यों बढ़ाई गई?
5. राज मंगल यादव अपने कार्यकर्ताओं के साथ और बड़े नेताओं के साथ रास्ते में आरओ को क्यों बार-बार घेर रहे थे? जिसका प्रमाण नरही थाना अध्यक्ष है।
6. सभी अधिकारियों ने मुझे जीत की बधाइयां दी थी कि आप 121 वोटों से चुनाव जीती हैं। राजमंगल यादव ने भी मुझे बधाई दिया था उसके बावजूद मुझे चुनाव क्यों हराया गया?
7. मंजू सिंह यादव ने दो बार डीएम साहिबा को फोन की फोन रिसीव भी किया गया लेकिन डीएम साहिबा से बात क्यों नहीं कराई गई?
8. जब नारद राय ने आरओ पर दबाव बनाया तो आरओ साहब क्यों डर गए? इसकी वीडियो हमारे पास है?
9. राज मंगल यादव जब एजेंट नहीं थे तो अंदर गए कैसे?
10. पंचस्थानीय कार्यालय में नारद राय, आरओ ,राज मंगल यादव और प्रशासनिक लोग के साथ राजन कनौजिया जाकर क्या बात किये?
11. इन सब के बाद जब मैं चुनाव 121 वोटों से जीत गई थी इसकी घोषणा भी हो गई थी तो मुझे कैसे चुनाव हरा दिया गया?
इस तरीके से मंजू सिंह यादव ने ग्यारह आरोप लगाए हैं। साथ मंजू सिंह यादव का कहना है कि मैं खामोश नहीं बैठूंगी क्योंकि सत्य कभी झुकता नहीं मैं इस मामले को लेकर आगे तक जाऊंगी वरना पुनः काउंटिंग किया जाए और सही इंसाफ किया जाए।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।