पांच साल पहले राहुल गांधी के तंबू में लवंडा बनकर नाच रहे थे बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह - सुनील सिंह प्रदेश प्रवक्ता सुभासपा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 17 June 2021

पांच साल पहले राहुल गांधी के तंबू में लवंडा बनकर नाच रहे थे बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह - सुनील सिंह प्रदेश प्रवक्ता सुभासपा

माइकल भारद्वाज बलिया

पांच साल पहले राहुल गांधी के तंबू में लवंडा बनकर नाच रहे थे बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह - सुनील सिंह प्रदेश प्रवक्ता सुभासपा

बलिया- उत्तर प्रदेश के वर्तमान राजनीतिक हालातों पर बोलते हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता  सुनील सिंह ने कहा कि इस समय जो उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार चल रही है, यह शुद्ध रूप से जातिवाद पर चल रही है ।प्रदेश में अब तक की सरकारों में सबसे ज्यादा अगर किसी एक कौम की हत्या हुई है तो योगी जी की सरकार में ब्राह्मणों की हत्या हुई है ।इस सरकार में किसान परेशान है ,छात्र परेशान है ,लोग दवा के अभाव में ,ऑक्सीजन के अभाव में हॉस्पिटल के बाहर दम तोड़ दिए लेकिन योगी जी उनकी पार्टी अन्य जगहों पर चुनाव लड़ने का कार्य करती थी ।इनको आम जनता से कोई लेना देना नहीं है ।इनको केवल वोट बैंक की राजनीति करनी है ।योगी सरकार की काम काज तो वैसी ही है जैसे सादा पन्ना परीक्षा में छोड़ दिया गया हो। जब उस पर कुछ लिखा ही नहीं है तो इस सरकार को क्या नंबर दिया जाए। हम लोग और हमारे नेता आदरणीय  ओमप्रकाश राजभर जी 10 दलों का एक भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाए हुए हैं और उस मोर्चे की लक्ष्य सिर्फ एक है भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश से 2022 में बेदखल करना और हम लोगों का साथ देने के लिए सपा, बसपा या अन्य दल भाजपा को छोड़ कर आना चाहते हैं तो उनका स्वागत है । 2022 में योगी जी को पुनः वहां पहुंचाना है जहां पर घंटा बजाने का कार्य करते थे।

एक प्रश्न के जवाब में सुनील सिंह ने कहा कि बेचारे सुरेन्द्र सिंह बैरिया विधायक के बारे में क्या कहा जाए ।दो साल पहले भी उनके बारे में कहे थे ।गोड़ऊ नाच के जोकर हैं। गोड़ऊ नाच का जोकर सबसे पहले अपने पूर्वजों को गाली देने से शुरुआत करता है और यह ऐसे व्यक्ति के ऊपर ऐसी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं । अभी पंचायत का चुनाव हुआ भारतीय जनता पार्टी अपनी हैसियत देख ली है ।मात्र सात जगहों पर भारतीय जनता पार्टी जनपद में चुनाव जीती है जबकि हम लोग 11 जगहों पर चुनाव जीते हैं और यहां तक कि सुरेंद्र सिंह का जिस वार्ड में गांव पड़ता है वहां जिला पंचायत सदस्य नहीं जीता पाए और अपने आप को बहुत बड़ा बाहुबली समझते हैं । बाहुबली हैं, किस मामले में, तो दारू बेचवाने में, बालू बेचवाने के मामले में है। 

सुनील सिंह ने कहा कि अभी कुछ दिन पहले सुरेन्द्र सिंह  और सांसद वीरेंद्र सिंह के बीच ठानी थी दारू और बालू को लेकर ।दोनों लोगों के बीच में क्या डील हुई यह तो वही लोग बताएंगे?

आगे बताते हुए सुनील सिंह ने कहा कि सुरेंद्र सिंह की स्थिति ऐसी है कि उनकी बातों को उनके दल के लोग ही गंभीरता से नहीं लेते हैं और अधिकारी भी नहीं लेते हैं। अभी चुनाव छह महीने बाद आने वाला है। उलूल जुलूल बातें करेंगे क्योंकि इनको हमें भाजपा के कुछ लोग से संबंध है उन्होंने बताया है कि जनपद में सबसे पहले अगर चुनाव का टिकट किसी का कटेगा तो वह है सुरेंद्र सिंह का।

विपक्ष पर टिप्पणी के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि अब उल्टी-सीधी विपक्षियों के बारे में बोलेंगे तभी तो अपने आप को सुरक्षित समझेंगे।

कांग्रेस पर टिप्पणी के संबंध में उन्होंने कहा कि अभी राहुल गांधीजी के बारे में बोले थे जिस राहुल गांधी जी के बारे में बोल रहे हैं पांच साल पहले यही सुरेंद्र सिंह उसी राहुल गांधी के तंबू के नीचे पखाउज का लौंडा बनकर नाच रहे थे। इनको तो कुछ भी बोल कर मीडिया में आने की बहुत जल्दी रहती है। अभी एनएच का काम चल रहा था तब पानी में अपने कूद गए। सुरेंद्र सिंह के क्षेत्र में कोई ठेकेदार तो काम कराने ही नहीं जा रहा है इसलिए कि बढ़िया भी काम कराएगा तो सुरेंद्र सिंह को कुछ दिए बिना नहीं करा पाएगा। नहीं तो जेसीबी लेकर चले जाएंगे ।इनका एक सूत्रीय कार्यक्रम है दारू ,बालू ,ठेकेदारी। इनका एक भाई है जो पूरे बलिया में घूम-घूम कर दलाली का कार्य करता है।

ऐसे विधायक की स्थिति के संबंध में सुनील सिंह ने कहा कि सुरेंद्र सिंह जैसा नेता तो हमारे नेता माननीय ओम प्रकाश राजभर जी पचीसो पैदा कर सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।