फर्रुखाबाद - पुलिस की जीप से कुचलकर किसान की मौत - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 21 November 2018

फर्रुखाबाद - पुलिस की जीप से कुचलकर किसान की मौत

रिपोर्ट - पुनीत मिश्रा
 
यूपी पुलिस का एक बार फिर से अमानवीय चेहरा सामने आया है इस बार फर्रुखाबाद में जहानगंज थाना प्रभारी की जीप ने खेत से लौट रहे एक किसान को टक्कर मार दी जिससे मजदूर गाड़ी के बंपर में फंस गया तब भी चालक ने जीप नहीं रोकी कुछ दूरी तक घसीटने के बाद उसे सड़क किनारे छोड़ पुलिसकर्मी मौके से फरार हो गये हादसे में किसान की मौत हो गई वहीं परिजनों ने शव बीच सड़क रख जमकर हंगामा काटा सूचना पर एएसपी, विधायक समेत भारी पुलिस बल तैनात रहा।जब सभी आलाधिकारी मौके पर पहुंचे उसके बाद थानाध्यक्ष पहुंचे।
 
 
थाना जहानगंज के नगला रूप निवासी राम अवतार (55) के चार बेटियां और चार बेटे हैं वह मजदूरी कर अपने परिवार का पालन पोषण करते थे परिजनों ने आरोप लगाते हुए बताया कि पिता रामअवतार देर शाम को खेत में पानी लगाकर लौट रहे थे तभी पुलिस की जीप रामअवतार को टक्कर मारते हुए उन्हें कुछ दूर तक घसीटते हुए ले गई और उसके बाद सड़क किनारे उन्हें छोड़ पुलिसकर्मी भाग निकले हादसे की सूचना मिलते ही परिजनों ने मौके पर पहुंच शव सड़क पर रख पुलिस के खिलाफ हंगामा करना शुरू कर दिया और शव रख कर बहोरिकपुर मोहम्दाबाद रोड जाम कर दिया मामले की सूचना मिलते ही एएसपी त्रिभुवन सिंह कई थानों की फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए उन्होंने परिजनों को कार्रवाई का आश्वासन दिया लेकिन इसके बाद भी ग्रामीण नारेबाजी करते रहे इसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग कर परिजनों को हटाकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा

मौके पर शव को नहीं किया गया सील  

 
 
आलाधिकारियों को शव पोस्टमार्टम के लिए ले जाने की इतनी जल्दी थी कि उन्होंने लापरवाही बरतते हुए मौके पर शव को सील तक नहीं किया और खुला हुआ छत बिछत शव गाडी में भर लिया और अमानवीय तरीके से गाडी को ले जाकर घटना स्थल से तक़रीबन 12 किलोमीटर दूर थाने पर ले जाकर खड़ी कर दी लेकिन कैमरे में हुई कैद हुई तस्वीरों से साफ़ है मित्र पुलिस का पाठ पढ़ने बाली यूपी पुलिस मृतक अधेड़ के शव पर एक मीटर कपडा तक नहीं डाल सकी 

पुलिस को फसता देख सीओ ने संभाली कमान

मामले में पुलिस को फंसता देख अमृतपुर सीओ ने खुद कमान संभाल परिजनों के सामने खड़े होकर बिना पढ़े लिखे का परिजनों का पूरा फायदा उठाया और मनमाफिक पुलिस को बचाते हुए परिजनों के सामने रिपोर्ट लिखाने के लिए तहरीर लिखबायी जिसमे परिजनों ने कई बार सीओ ने जब थाना जहानगंज पुलिस की गाडी का नाम नहीं लिखा तो बिरोध कर परिजनों ने थाना पुलिस  का नाम नीचे लिखबाया लेकिन सबसे बड़ी बात यह है सीओ अमृतपुर ने बड़ी सावधानी से पुलिस को बचाने की सारी हदे पार कर दी

No comments:

Post a Comment