किसानों की जितनी आत्महत्याएं भाजपा शासन में हुयी ,उतनी देश के इतिहास में कभी नहीं हुयी -मसूद अहमद - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 21 January 2019

किसानों की जितनी आत्महत्याएं भाजपा शासन में हुयी ,उतनी देश के इतिहास में कभी नहीं हुयी -मसूद अहमद

चीफ रिपोटर UP - चन्द्र मोहन तिवारी

राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 मसूद अहमद ने कहा कि विपक्षी दलों के एक मंच पर आने और भाजपा की कार्यषैली की कलई खुलने से देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नींद उड गयी है। विपक्षी दलों के गठबंधन को नरेन्द्र मोदी भ्रष्टाचार का गठबंधन कहकर स्वयं अपनी खिल्ली उडाने का काम कर रहे है क्योंकि जब विपक्ष में थे तो उन्होंने भी गठबंधन किया था और उसी गठबंधन के लोग इनकी कार्यषैली के कारण ही एक एक करके भाजपा का साथ छोड रहे हैं जिससे स्पष्ट होता है कि इन्होंने स्वयं भ्रष्टाचार करने के लिए गठबंधन बनाया था।





डाॅ0 अहमद ने कहा कि लोकसभा चुनाव की घोषणा तक इनके वे सभी घटक दल साथ छोड जायेंगे जो भ्रष्टाचार में लिप्त नहीं हैं। हमारे सम्पूर्ण गठबंधन ने सत्ता से भाजपा को उखाड फेकने के लिए निःस्वार्थ भाव से कदम बढाया है क्योंकि भाजपा सरकारों ने देश के किसानों, मजदूरों और कामगारों के साथ साथ बेरोजगार नवयुवकों को धोखा दिया है। किसानों की जितनी आत्महत्याएं भाजपा शासन में हुयी उतनी देश के इतिहास में कभी नहीं हुयी। नोटबंदी के समय हजारों कारखाने बंद हो गये जिससे लाखों मजदूर और कामगार बेकार हो गये और अपने परिवार की रोजी रोटी चलाने के लिए काम की तलाष में दर दर भटकने लगे। बेरोजगार नवयुवकों को दो करोड रोजगार प्रतिवर्ष देने का वादा करने वाले प्रधानमंत्री बेरोजगारों को पकौडा बेचने का पाठ पढा रहे हैं। इस प्रकार देश के कोने कोने में त्राहिमाम त्राहिमाम सुनने को मिल रहा है। 
 
रालोद प्रदेष अध्यक्ष ने कहा कि देश की जनता ने गठबंधन को वोट देकर भाजपा को सत्ता से बाहर करने का संकल्प कर लिया है जिसका प्रमाण उत्तर प्रदेश में विगत 3 लोकसभा और 1 विधान सभा के सम्पन्न हुये उपचुनावों तथा एक माह पूर्व सम्पन्न हुये विधान सभा चुनावों से मिलता है। देश की जनता सम्पूर्ण विपक्षी दलों के गठबंधन से प्रसन्न है क्योंकि उसमें चौ 0 चरण सिंह के सपनों का भारत बनने के आसार नजर आ रहे हैं अगली लोकसभा पूूजीपतियों की न होकर किसानों, मजदूरों और बेरोजगारों की होगी।

No comments:

Post a Comment