कानपुर देहात - पौधारोपण व विश्व शान्ति की कामना के साथ मदर लैंण्ड विद्यालय में योग शिविर का हुआ समापन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 24 June 2019

कानपुर देहात - पौधारोपण व विश्व शान्ति की कामना के साथ मदर लैंण्ड विद्यालय में योग शिविर का हुआ समापन




जिला संवादाता अरविन्द शर्मा
                                                
 योग शब्द संस्कृत भाषा के युज शब्द से बना है जिसका अर्थ है जुड़ना।योग सभी को जोड़ता है इस विधा ने पूरे विश्व को एक सूत्र में पिरोने का अति सुन्दर कार्य किया है । प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय योग शिविर में प्रधानमंत्री मोदी जी के साथ 35985 लोगों ने तथा 84 देशों के लोगों ने एक साथ योग किया था ये दोनों  गिनीज बुक के रिकार्ड बने हैं।उक्त बात मुख्य अतिथि के रूप में पधारे प्रधानाध्यापक कैलाश नाथ पाल नें तीन दिवसीय योग शिविर का समापन करते हुए कही। उक्त विद्यालय के डायरेक्टर अशोक सिंह यादव  ने कहा कि हमारे पुराणों के अनुसार योग का गूढ़ ज्ञान देवादिदेव महादेव ने हजारों हजार साल पूर्व सप्त ऋषियों को हिमालय पर्वत पर कान्ति सरोवर के किनारे दिया था। प्रबन्धक बीरेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि सप्तऋषियों ने योग को पूरे विश्व में फैलाया आधुनिक वैज्ञानिक पूरे विश्व में योग की एक सी ही विधा देखकर अचंभित हैं। विद्यालय के संरक्षक राम सनेही  यादव ने कहा कि प्रातः कालीन बेला में  योगाभ्यास करने से स्फूर्ति, बढ़ती है। योग शिक्षिका गरिमा मिश्रा ने शलभासन,शशकासन, ताड़ासन, वृक्षासन, घुटना संचालन,त्रिकोण आसान, भुजंगासन,कपाल भाँति आदि योग कराए। संचालन योग शिक्षक नवीन कुमार दीक्षित ने करते हुए चलो चलें हम पेड़ लगा दें पर्यावरण गीत के द्वारा पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया ।स्वाती सिह, जान्हवी व मानवी शोभित सिंह,आकाश सिंह,शान्या,शालू सिंह,प्रिया सिंह,खुशबू सिंह,देवाँश मिश्रा पाल,अर्चना,शिवम सहित अनेकों योगाभ्यासियों ने योग का आनंद लिया।।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।