भाजपा सरकार ने किसानों की जायज मांग न सुनकर उनकी आवाज को कुचलने की कोशिश - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 17 November 2019

भाजपा सरकार ने किसानों की जायज मांग न सुनकर उनकी आवाज को कुचलने की कोशिश


press note
 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उन्नाव में किसानों पर पुलिस और प्रशासन की दमनात्मक कार्यवाही की जितनी निंदा की जाए कम है। भाजपा सरकार ने किसानों की जायज मांग न सुनकर उनकी आवाज को कुचलने का अलोकतंात्रिक काम किया है। स्पष्ट है कि भाजपा सरकार किसानों के प्रति द्वेषपूर्ण रवैया अपनाने में जरा भी संकोच नहीं करती है। किसानों की समस्याओं का जवाब भाजपा सरकार लाठी-गोली से देकर संवेदनाओं को तार-तार करना अपना धर्म समझती है।

      उन्नाव में राज्य सरकार द्वारा ट्रांस गंगा सिटी के लिए किसानों की जमीनें जबरन अधिगृहीत की गई है। किसानों को बहुत कम मुआवजा दिया गया है। आज किसान जब बढ़ा हुआ मुआवजा और रोजगार की मांग कर रहे हैं तो उन पर पानी, आंसू गैस छोड़ी गई और जमकर लाठियां बरसाई गई हैं। दर्जन भर से ज्यादा किसान घायल हुए हैं। पुलिस और प्रशासन का यह बर्बर रवैया घोर निंदनीय है।

      भाजपा सरकार ने चुनाव के समय जो वायदा किसानों से किया था उसे पूरा करना चाहिए। सरकार को किसानों को अपमानित करने और उन पर लाठी-गोली चलाने के बजाय सहमति का रास्ता अपनाना चाहिए। अन्नदाता का अपमान सरकार को मंहगा पड़ेगा।

      समाजवादी सरकार ने विकास योजनाओं के लिए जब भी जमीन अधिगृहीत की किसानों की सहमति से की। किसानों को समाजवादी सरकार ने नोएडा से आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे का 65 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा दिया था। समाजवादी सरकार में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का किसानों की सहमति से उन्हें चार गुना मुआवजा दिया गया था।

      भाजपा सरकार जो जबर्दस्ती और दमन का सहारा ले रही हैं यह पूर्णतया अनुचित और अनैतिक कृत्य है। किसानों की शिकायत है कि वायदे के मुताबिक उनके मसलों का समाधान नहीं किया जा रहा है। प्रशासन जबर्दस्ती उनकी जमीनों पर कब्जा करना चाहता है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।