बुखार के कारण लड़का हुआ विछिप्त बीती रात खाने लगा मोबाइल ओर इलेक्ट्रिक बोर्ड - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 28 April 2020

बुखार के कारण लड़का हुआ विछिप्त बीती रात खाने लगा मोबाइल ओर इलेक्ट्रिक बोर्ड

कृपा शंकर चौधरी

दहाड़े मार रो रही है मां  लाँकडाऊन में फसे एकलौते पुत्र के लिए।

बुखार के कारण लड़का हुआ विछिप्त बीती रात खाने लगा मोबाइल ओर इलेक्ट्रिक बोर्ड

गोरखपुर। एक तरफ गरीबी तो दूसरे तरफ कोरोना के कारण लाकडाऊन एक मां लिए विपदा की घड़ी बन गई है। बुखार के बाद विछिप्त हुए हैदराबाद में फसे पुत्र के लिए मां लगातार रोएँ जा रही है। लाँकडाऊन के कारण वहां जा नहीं सकती और गरीबी ऐसी की उसे ला नही सकती है।
मामला खोराबार थानान्तर्गत रामपुर डाड़ी गाँव का है। गरीबी के कारण 17 वर्ष का राहुल साहनी रोजगार की तलाश में हैदराबाद के बोराबन्दा राजीव गांधी नगर पहुंच गया। घर से सैकड़ो कीलोमीटर दूर एक अनजान जगह उसे जानने वाला केवल एक व्यक्ति साथ मे रहता है। प्रथम लाकडाऊन के दौरान राहुल को बुखार हो गया किन्तु बाहर निकलने के पावंदी के कारण वह दवा नहीं करा सका।स्थिति खराब होने पर घर के लोगों को जानकारी हुई। रामपुर डाड़ी के प्रधान प्रतिनिधि फागू निषाद को इस संम्बंध मे जानकारी होने पर उनके द्वारा किसी तरह बोराबन्दा के स्थानीय लोगों से फोन के माध्यम से मदद की गुहार लगाई गई। किसी तरह राहुल अस्पताल पहुंचा किन्तु बुखार के कारण वह अचेत हो चुका था। अस्पताल के द्वारा दवा देकर नियमित सेवन का सलाह देकर छोड़ दिया गया। दवा के उपयोग से राहुल बुखार से तो ठीक हो गया किन्तु मानसिक स्थिति खराब हो गई हैं। नतीजा यह है कि साथ मे रहने वाला साथी परेशान हो चुका है और राहुल को लेकर भयभीत है। साथी के द्वारा बताया गया कि राहुल को घर मे बंद कर रखना पड़ रहा है। गत दिन की घटना मे साथी ने बताया कि राहुल के द्वारा मोबाइल और इलेक्ट्रिक बोर्ड खाने का असफल प्रयास किया गया।
राहुल की पारिवारिक स्थिति भी ठीक नहीं है। पिता रामसजन बैगलोर मे मजदूरी करते हैं किंतु लाकडाऊन के कारण वह भी फसे हुए हैं और पुत्र के पास पहुंच मदद करने मे असमर्थ है। राहुल की स्थिति की जानकारी होने पर गांव में मां का रोकर बुरा हाल है। मदद के लिए गांव में वह एक घर से दूसरे घर भटक रही है।
राहुल की मां से संपर्क करने पर वह रोने लगी और अपने एकलौते पुत्र को बचाने और घर लाने की रट  लगाती रही।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।