बस्ती में छह फर्जी शिक्षकों ने विभाग को लगाया ढाई करोड़ का चूना - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 26 July 2020

बस्ती में छह फर्जी शिक्षकों ने विभाग को लगाया ढाई करोड़ का चूना

आलोक कुमार चौधरी बस्ती

बस्ती में छह फर्जी शिक्षकों ने विभाग को लगाया ढाई करोड़ का चूना


 बस्ती । पैन कार्ड सत्यापन के दौरान सामने आए फर्जीवाड़े में छह शिक्षकों की सेवा समाप्त करने के साथ विभागीय स्तर से मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया है। इन आधा दर्जन शिक्षकों ने बेसिक शिक्षा विभाग को करीब ढाई करोड़ रुपये की चपत लगाई है। वर्षों से सहायक अध्यापक के तौर पर वेतन आहरित करने वाले इन शिक्षकों से अब वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
 दूसरे के नाम पर नौकरी करने की शिकायत पर बीएसए अरुण कुमार ने जांच बैठाई थी। इसमें जिले में करीब दस से 15 साल पूर्व से कार्यरत आधा दर्जन शिक्षकों के कूटरचित व फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नियुक्ति हासिल करने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद सभी को चार जुलाई को बर्खास्त कर दिया गया था।
बेसिक शिक्षा कार्यालय से मिली रिपोर्ट के अनुसार जांच में फर्जी निकले सतीश प्रसाद प्रधानाध्यापक, प्राथमिक विद्यालय गुलरिहा सेमरा, ब्लॉक बनकटी ने 28 लाख 81 हजार 692 रुपये वेतन के तौर पर आहरित किया है। विपिन कुमार सहायक अध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, कटया ब्लॉक गौर ने 34 लाख 11 हजार 308 रुपये, प्रियंका चौधरी, प्रधानाध्यापिका, प्राइमरी कबरा खास, कुदरहा ब्लॉक ने 36 लाख 89 हजार 682 रुपये, धु्रव नारायण, सहायक अध्यापक, बढ़या सरदहा, सल्टौआ ब्लॉक ने 50 लाख 14 हजार 115 रुपये और मालती पांडेय, प्रधानाध्यापिका बड़हरकला, हर्रैया ने 83 लाख 39 हजार 11 रुपये वेतन के रूप में प्राप्त किया है।
जांच में फर्जी निकले सभी छह सहायक अध्यापकों को बर्खास्त कर दिया गया है। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के साथ ही आहरित वेतन की रिकवरी के लिए नोटिस जारी कर दिया गया है। नियमानुसार कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।


*अरुण कुमार जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी*

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।