गोण्डा:विश्व फार्मासिस्ट-दिवस पर निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 25 September 2020

गोण्डा:विश्व फार्मासिस्ट-दिवस पर निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया

राकेश सिंह गोण्डा 

विश्व फार्मासिस्ट-दिवस  पर निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया

मसकनवा(गोंडा) विश्व फार्मासिस्ट-डे  मौके पर शुक्रवार को फार्मेसी & फार्मासिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के तत्त्वधान में मसकनवा बाजार में निःशुल्क चिकित्सा शिविर व दवा वितरण का आयोजन किया गया।  फार्मेसी & फार्मासिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव नौशाद खान ने फीता काटकर शिविर का शुभारंभ किया।इस मौके पर प्रदेश महासचिव नौशाद खान ने कहा कि इसकी शुरुआत 2009 में अंतरराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल फेडरेशन (एफआईपी) द्वारा इस्तांबुल, तुर्की में हुई थी। 25 सितंबर का दिन इसलिए चुना गया था क्‍योंकि इसी तारीख को अंतरराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल फेडरेशन (एफआईपी) की 1912 में स्‍थापना हुई थी। हर वर्ष एफआईपी के सदस्य वि‍श्व फार्मासिस्ट दिवस में भाग लेकर फार्मासिस्ट की गतिविधियों के बारे में जागरूकता बढ़ाते हैं।
स्वास्थ्य विभाग में सुधार करने, स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं को बेहतर बनाने में ये अहम भूमिका निभाते हैं। इसी वजह से इनके इस विशेष योगदान को दुनिया भर में सम्मान देने के लिए 25 सितंबर की तारीख को वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे मनाया जाता है। 
जिलाध्यक्ष सुमित मोदनवाल "मोनू" ने कहा की हम सभी स्वस्थ रहते हैं, इसके पीछे इन्हीं फार्मासिस्ट का खास योगदान होता है।
इस मौके पर वरिष्ठ उपाध्यक्ष शहजाद अली, महासचिव संदीप यादव, ज़िला सचिव, सुजीत गुप्ता, निरंजन सैनी, सोनू पांडेय, आशीष सिंह अजय गुप्ता, विजय श्रीवास्तव, हेमंत मिश्रा, अवधेश प्रजापती , विकल्प त्रिपाठी, कुलदीप वर्मा, शुभम त्रिपाठी, अनूप सिंह, राजेश चौहान, आनंद कंसौधन, सचिन वर्मा, आनंद गुप्ता, सुनील यादव, निरंकार शुक्ला आदि उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।