लोक दल का कृषि अध्यादेश के विरोध मे मौन धरना प्रदर्शन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 26 September 2020

लोक दल का कृषि अध्यादेश के विरोध मे मौन धरना प्रदर्शन

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


लोक दल का कृषि अध्यादेश के विरोध मे मौन धरना प्रदर्शन

    सेवापुरी । लोक दल वाराणसी जिला इकाई के अध्यक्ष रमेश गुप्ता द्वारा कपसेठी चौराहे पर स्थित स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बाबू निहाला सिंह जी की मूर्ति पर माल्यार्पण करने के बाद राष्ट्रीय प्रवक्ता जयराम पान्डेय और प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश कुमार सिंह मुन्ना के नेतृत्व मे किसानों की समस्याओं को लेकर भारत बंद आन्दोलन के समर्थन मे मुह पर काली पट्टी बांध कर मौन प्रदर्शन किया गया।
       मौन प्रदर्शन मे राष्ट्रीय  प्रवक्ता जयराम पान्डेय ने कहा कि जब तक न्यूनतम समर्थन मुल्य का कानून और मंडियो को नष्ट न करने का लिखित ईकरारनामा तथा कार्पोरेट फार्मिँग से सम्बंधित कानूनो को केन्द्र सरकार रद्द नही कर देती है तब तक पूरे देश के किसान चुप बैठने वाले नही है।
   प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश कुमार सिंह मुन्ना ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को आड़े हाथो लेते हुये कहा कि यदि किसानो के हितैषी है तो न्यूनतम समर्थन मुल्य का कानून क्यू नही बनाये। पूरे देश मे किसानो के द्वारा उत्पादित फसलो का मात्र 06 प्रतिशत हिस्सा ही न्यूनतम समर्थन मुल्य पर खरीदा जाता है परिणाम स्वरुप फसलो का उचित दाम न मिलने पर किसान आत्म हत्या कर लेता है। केन्द्र सरकार द्वारा पारित नया किसान अध्यादेश किसानो के लिये सिर्फ काला कानून बन कर रह जायेगा जिसकी जद मे आकर किसान निजी कम्पनियो के करार वाले झासे मे फस जायेंगे। इस लिये किसानो के विरुद्ध पारित कृषि अध्यादेश को केन्द्र सरकार समाप्त करे। अध्यक्षता रमेश गुप्ता किया। प्रदर्शन मे मुख्य रूप से महेंद्र सिंह,विजय मौर्या,सौरभ यादव,धनेश पटेल,देवमाणि त्रिपाठी,फूल चंद प्रजापति,ब्रिज लाल मौर्य सहित अन्य लोगो ने भाग लिया।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।