विश्वकर्मा पूजा को विश्वकर्मा तकनीकी दिवस का नाम देकर घोषित किया जाए सार्वजनिक अवकाश - जिलाध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 1 September 2020

विश्वकर्मा पूजा को विश्वकर्मा तकनीकी दिवस का नाम देकर घोषित किया जाए सार्वजनिक अवकाश - जिलाध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा

बलरामपुर हंसराज शर्मा की रिपोर्ट

विश्वकर्मा पूजा को विश्वकर्मा तकनीकी दिवस का नाम देकर घोषित किया जाए सार्वजनिक अवकाश - जिलाध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा



सादुल्लानगर- बलरामपुर जनपद के उतरौला तहसील अन्तर्गत आने वाले सरायखास बाजार में सोमवार को स्टेट बैंक बगल के बगल विश्वकर्मा समाज की एक बैठक का आयोजन किया गया।जिसमें बैठक की अध्यक्षता विश्वकर्मा समाज के जिलाध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा ने की उन्होंने बैठक में आए हुए लोगो का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आगामी सत्रह सितंबर को तकनीकी एवं शिल्प के देवता भगवान विश्वकर्मा की पूजा है।इस दिन कारखानों सहित उद्योग जगत में काम कर रहे करोड़ो कारीगरों,शिल्पकारों,श्रमिकों,इंजीनियरों के द्वारा भगवान विश्वकर्मा की पूजा बड़े ही धूमधाम से की जाती है।और कही -कही पर शोभायात्रा भी निकाली जाती है।मगर इस बार देशभर में फैली कोरोना महामारी के चलते यह सब हो पाना सम्भव होता हुआ नजर नही आ रहा है।जिसको लेकर विश्वकर्मा समाज के राष्ट्रीय संयोजक अभिषेक विश्वकर्मा,राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ0 जितेन्द्र विश्वकर्मा,राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष आशुतोष विश्वकर्मा,प्रदेश प्रभारी उत्तर प्रदेश जितेंद्र शर्मा,प्रदेश महामंत्री उमेश शर्मा,प्रदेश प्रचार मंत्री नितीश विश्वकर्मा,प्रदेश संगठन मंत्री सोनू वर्मा( स्वर्णकार) आदि लोगो ने विश्वकर्मा पूजन को विश्वकर्मा तकनीकी दिवस का नाम देते हुए भारत सरकार से इसे सार्वजनिक अवकाश घोषित किए जाने की माँग की है।जिसका हम समर्थन करते है।
इस मौके पर संगठन के जिलाध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा,जिला संगठन मंत्री राकेश विश्वकर्मा,जिला मीडिया प्रभारी हंशराज शर्मा,राज कुमार विश्वकर्मा,गुरु चरन विश्वकर्मा, राम निवास विश्वकर्मा,राम बहादुर विश्वकर्मा,राम सुरेश विश्वकर्मा,रामू शर्मा,भोला शर्मा,गणेश शर्मा,दीप शर्मा,बेचन शर्मा,कल्लू शर्मा,नानबाबू विश्वकर्मा,फागूराम शर्मा,सुरेश कुमार विश्वकर्मा,रवि प्रताप आदि लोग मौजूद रहे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।