विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वाहन पर निकाली गई मशाल जुलूस - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 29 September 2020

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वाहन पर निकाली गई मशाल जुलूस

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वाहन पर निकाली गई मशाल जुलूस

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति, उत्तर प्रदेश के आह्वाहन पर आज शहीद ए आजम भगत सिंह के जन्मदिन पर निजीकरण के विरोध में एक विशाल मशाल जुलूस भिखारीपुर स्थित प्रबंध निदेशक कार्यालय से निकाला जिसमें  वाराणसी के हजारों बिजली कर्मचारी, जूनियर इंजीनियर एवं अभियंता शामिल होकर सार्वजनिक क्षेत्र को बचाने का संकल्प किया | वे हाथ में मशाल एवं नारों की तख्तियां जिसमें निजीकरण वापस लो, जनता को सस्ती बिजली दो, सत्ता में कुछ लाभ कमाने को - बेच रहा बेईमानों को, मुख्यमंत्री न्याय करो आदि लिखा था एवं इसी प्रकार के नारे भी लगा रहे थे | ऐतिहासिक मशाल जुलूस ककरमत्ता, नेवादा , सुंदरपुर, नरिया होते हुए पंडित मदन मोहन मालवीय जी की प्रतिमा बीएचयू गेट के सामने लंका पहुंचा

 वाराणसी-28सितम्बर । संघर्ष समिति उ0प्र0 के निर्देशन पर  आज अठाइस्वें दिन भी वाराणसी के बिजली कर्मचारियों ने प्रबंध निदेशक कार्यालय भिखारीपुर पर एकजुट होकर एक घंटे की विरोध सभा कर निजीकरण के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया | 
   संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि बिजली कर्मी कल से दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक  कार्य बहिष्कार करेंगे | संघर्ष समिति द्वारा सरकार और प्रबंधन को भेजी गई नोटिस में कहा गया है कि यदि निजीकरण का प्रस्ताव निरस्त न किया गया तो 5 अक्टूबर से बिजली कर्मी पूरे दिन का कार्य बहिष्कार करेंगे | 

संघर्ष समिति ने आम जनता से अपील करते हुए कहा है कि पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम का निजीकरण किसी भी प्रकार से प्रदेश एवं आम जनता के हित में नहीं है | आगरा में निजीकरण का इतिहास इस बात का गवाह है कि निजीकरण से सबसे ज्यादा परेशानी आम ईमानदार उपभोक्ताओं को उठानी पड़ रही है | आगरा में अरबों खरबों रुपए का घोटाला होने के बावजूद पूर्वांचल निगम का निजीकरण किए जाने के पीछे कॉरपोरेट घरानों को बेजा फायदा देने और मेगा घोटाले की तैयारी है | 

आज सुबह ज्ञापन दो अभियान के तहत आज भी निजीकरण के विरोध में प्रदेश भर में सांसदों व विधायकों को बड़े पैमाने पर ज्ञापन देने का कार्यक्रम जारी रहा | इसी क्रम में वाराणसी में आए हुए उत्तर प्रदेश सरकार के माननीय ऊर्जा राज्य मंत्री श्री रमा शंकर पटेल जी एवं विधान परिषद के सदस्य श्री केदारनाथ सिंह जी को भी ज्ञापन दिया गया | ऊर्जा राज्य मंत्री जी से संघर्ष समिति ने मांग की कि विद्युत वितरण निगमों में सुधार के लिए कर्मचारियों एवं अभियंताओं को विश्वास में लेकर ही कार्यवाही की जाए |
  निजीकरण के विरोध में संघर्ष समिति के आंदोलन को उ0प्र0 लेखा संघ ने अपना समर्थन दिया।

आज की विरोध सभा एवं मशाल जुलूस में मुख्यत सर्वश्री इं चंद्रशेखर चौरसिया, सुनील यादव,डॉ0 आर बी सिंह, आर के वाही, माया शंकर तिवारी,शशिकिरण मौर्य, फ़रिन्द्र राय, जगदीश पटेल, संजय भारती, ए के श्रीवास्तव, राजेन्द्र सिंह,रमाशंकर पाल, रमन श्रीवास्तव, वीरेंद्र सिंह, हेमंत श्रीवास्तव,एस के सिंह, पी के गुप्ता, विवेक तिवारी, संतोष वर्मा, जीउत लाल, राजेश कुमार, रमन श्रीवास्तव, नीरज बिंद,  अनिल कुमार, विजय सिंह,ए0पी0 शुक्ल,अंकुर पाण्डेय, ओ पी भारद्वाज, मदन लाल, एस0 के0 सिंह, संतोष कुमार, तपन हालदार,ए के चौधरी, अमितानंद त्रिपाठी ,विकाश कुशवाहा, तपन चटर्जी, राम आशीष, जे पी एन सिंह, कृष्णा भारद्वाज, गुलाब प्रजापति, ए के सिंह, संतोष कुमार, सौरभ श्रीवास्तव, अनुनय पाण्डेय,रंजीत मौर्य,संजय सोनकर,एस0के0 भूषण,राजेश सोनकर,अरुण गुप्ता,समीर पाल,मनीष,पवन कुमार, काशिम ,पारस यादव  आदि सम्मिलित रहे |


      

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।