बांदा: संपर्क क्रांति एवं हरिद्वार ट्रेनों का आरक्षण बंद - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 25 December 2020

बांदा: संपर्क क्रांति एवं हरिद्वार ट्रेनों का आरक्षण बंद

सलिल यादव बांदा

बांदा: संपर्क क्रांति एवं हरिद्वार ट्रेनों का आरक्षण बंद

बांदा। त्यौहार स्पेशल के नाम से चलाई जा रही संपर्कक्रांति तथाहरिद्वार एक्सप्रेस ट्रेनों पर रोक लगा दी गई है! इन ट्रेनों के आरक्षण बंद कर दिये गये हैं। इससे यात्रियों के लिये मुसीबत उत्पन्न हो गई है। जबकि प्रतिदिन बांदा से दिल्ली के लीये अनुमान तया तीन सौ लोगों का सफर होता हैं। ट्रेनों के संचालन को लेकर असमंजस के हालात कायम हैं।
कोरोना संक्रमण को लेकर बांदा स्टेशन से अभी चंद ट्रेनों संपर्कक्रांति, हरिद्वार एक्सप्रेस, बुंदेलखंड, लखनऊ, प्रयागराज अंबेडकर नगर व झांसी पैसेंजर का ही संचालन हो रहा है। संक्रमण के चलते सभी ट्रेनों के आरक्षण टिकट पर ही यात्री सफर कर रहे हैं। इसमें दैनिक संपर्क क्रांति 21 अक्टूबर व साप्ताहिक हरिद्वार-जबलपुर एक्सप्रेस 22 अक्टूबर को त्योहार स्पेशल के नाम से चलाई गई थीं। दिल्ली के लिए बांदा स्टेशन से इकलौती संपर्कक्रांति एक्सप्रेस होने से यात्रियों को सफर करने में आसानी होती है। लेकिन अब संपर्क क्रांति में एक जनवरी के बाद के आरक्षण टिकट नहीं बन रहे हैं। इसी तरह हरिद्वार एक्सप्रेस के 31 दिसंबर के बाद के टिकट बनना बंद हैं। मसलन रेलवे विभाग ने अभी तक नए वर्ष 2021 में दोनों ट्रेनों के संचालन की रूपरेखा तैयार नहीं की है। इससे आरक्षित टिकट की आगे की तिथियों की साइड ही नहीं खुल रही है। संपर्कक्रांति का संचालन यदि बंद हुआ तो रेलवे को भी रोजाना तीन सौ यात्रियों का नुकसान उठाना पड़ेगा।
स्टेशन प्रबंधकएस के कुशवाहा का कहना है की दोनों ट्रेनों के आगे के संचालन के बारे में अभी तक उच्च अधिकारियों से कोई दिशा निर्देश जारी नहीं किए गए हैं। आगे की गाइड लाइन जो भी मिलेगी। उसी के आधार पर यहां से आवागमन की व्यवस्था की जाएगी।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।