बांदा डीएम की तेजी : जिले में रफ्तार पकड़नें लगा बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण! - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 25 December 2020

बांदा डीएम की तेजी : जिले में रफ्तार पकड़नें लगा बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण!

सलिल यादव बांदा

बांदा डीएम की तेजी : जिले में रफ्तार पकड़नें लगा बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण! 

- बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के लिए 6 बैंकों से मिला 5900 करोड़ का कर्ज
- यूपीडा और संबंधित छह बैंकों ने ऋण राशि से संबंधित दस्तावेजों परहुये हस्ताक्षर!

बांदा। जिलाधिकारी आनन्द कुमार की विशेष रुचि से पीएम और सीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण बांदा में गति पकड़ने लगा है। वैसे इस संपूर्ण प्रोजेक्ट का अब तक 16 प्रतिशत निर्माण कार्य पूरा हो चुका है, जल्द ही यह और रफ्तार पकड़ेगा। जरूरी बजट के लिए बैंकों के कंसोर्टियम का गठन किया गया है। इसके तहत एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए छह बैंकों ने 5900 करोड़ का कर्ज दिया है। उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) और संबंधित बैकों ने ऋण राशि से संबंधित दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर दिये हैं। किसी एक बड़े प्रोजेक्ट के लिए जब कई बैंक ऋण देती हैं तो उसके लिए बैंक बनाया जाता है जिसे कंसोर्टियम कहते हैं। इसमें शामिल सभी बैंकों की बराबर भागीदारी होती है, लेकिन पूरे लेनदेन की प्रक्रिया की जिम्मेदारी कंसोर्टियम की होती है।
उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए जिम्मेदार संस्था यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के निर्माण के लिए यूपीडा ने छह बैंकों से 5900 करोड़ रुपए कर्ज लिया है। इनमें बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन बैंक, बैंक ऑफ इंडिया और यूको बैंक शामिल हैं। अवनीश कुमार अवस्थी ने सभी बैंक अधिकारियों का आभार जताते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण काल में भी बैंकों ने पूर्ण सहयोग देकर कर्ज मंजूर किया है। इससे बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे परियोजना के लिए बैंकों के कंसोर्टियम की स्थापना संभव हो पाई है। उन्होंने बताया कि बैंकों के इस कदम से परियोजना के निर्माण कार्य में तेजी के साथ ही कोरोना महामारी के समय में स्थानीय आधार पर रोजगार सृजित हो रहें हैं।बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण कार्य, बैंकों का कंसोर्टियम गठित
15 हजार करोड़ है अनुमानित लागत है।
मार्च 2020 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का शिलान्यास किया था। यह एक्सप्रेसवे बुंदेलखंड क्षेत्र को सड़क मार्ग के जरिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से जोड़ेगा। एक्सप्रेसवे निर्माण की अनुमानित लागत 15 हजार करोड़ है। बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे चित्रकूट के भरतकूप से इटावा होकर आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर कुदरैल के पास मिलेगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे बुंदेलखंड के चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, महोबा और जालौन के साथ ही औरैया, इटावा, आगरा से निकलेगा। करीब 300 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेसवे अभी चार लेन का होगा। भविष्य में इसे छह लेन तक विस्तारित किए जाने की योजना है।बांदा में अभी तक इसका निर्माण कार्य कछुवा गति से था, लेकिन जिलाधिकारी आनन्द कुमार सिंह इस योजना पर विशेष ध्यान दे रहे हैं इसके चलते कुछ न्यायालीय विवाद के बाद भी इसके निर्माण नें गति पकड़ ली है!

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।