26 जनवरी 2021 को लालकिला पर हुए घटना से आहत हूँ - रामचन्द्र सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, किसान मोर्चा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 30 January 2021

26 जनवरी 2021 को लालकिला पर हुए घटना से आहत हूँ - रामचन्द्र सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, किसान मोर्चा

इश्वर चन्द्र पटेल कुशीनगर

26 जनवरी 2021 को लालकिला पर हुए घटना से आहत हूँ - रामचन्द्र सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, किसान मोर्चा



कुशीनगर। वेटरनस एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष, किसान मोर्चा व भाकियू(अम्बावता) जिलाध्यक्ष, कुशीनगर ने बताया है कि 26 जनवरी 2021 को जो घटना हमारे देश के प्राचीर लालकिला पर हुआ है उससे में बहुँत ही आहत हूँ और केन्द्र सरकार से माँग करते है कि इस घटना की उच्चस्तरीय जाँच करायी जाय और जो दोषी है उसके ऊपर संबैधानिक कार्यवाही किया जाय। आगे राष्ट्रीय अध्यक्ष सिंह ने केन्द्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जब पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा था उस समय किसान विरोधी अध्यादेश को जबरजस्ती किसानों के ऊपर थोपने की क्या जरूरत थी। एक तरफ तो सरकार का दावा है कि हम किसानों की आय दोगुनी कर देंगे ऊपर से यह तीनों किसान विरोधी अध्यादेशों को लाकर सरकार चंद पूजीपतियों को लाभ पहुंचाने की नियत से किसानों का दमन करने में लगी। विगत दो महीने से ऊपर हो गये किसान आन्दोलन होते हुए मगर केंद्र सरकार अपने तानाशाही रवैया अपनाकर किसानों के आवाज को दबाना चाहती है जो सम्भव नही है। किसान देश की रीढ़ की हड्डी है और इन्ही किसानों से सरकार बनती और बिगड़ती भी है इसका बोध भी सरकार को होना चाहिए। श्री सिंह ने केंद्र सरकार को आगाह किया है कि किसानों को कमजोर न समझे यदि किसान धरती का सीना चीर कर अन्न पैदा कर सकता है तो वह अपने हक की लड़ाई भी बाखूबी लड़ सकता है। वही श्री सिंह ने योगी सरकार को भी हाडे हाथों लेते हुए अगाह किया है कि जो किसान गाजीपुर बॉर्डर पर संबैधानिक तरीके से धरना प्रदर्शन कर रहे है उनके ऊपर किसी प्रकार की  जबरजस्ती कार्यवाही न किया जाय। यदि ऐसा हुआ तो उत्तर प्रदेश का किसान व किसान संगठन सरकार की ईंट से ईंट बजाने में देर नही लगायेगा जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। वेटरनस एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष, किसान मोर्चा व भाकियू(अम्बावता) के जिलाध्यक्ष, कुशीनगर ने केंद्र सरकार से माँग किया है कि अभी भी वक्त है किसानों की जायज माँगों के ऊपर सरकार ध्यान देते हुए तीनों काला कानून को वापस लिया जाय जो देश और किसान हित मे मिल का पत्थर साबित होगा।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।