तबादले के बाद भी नहीं छूट रहा जिले का मोह, डेढ़ महीने पहले 64 उपनिरीक्षकों का गैर जिले किया गया था स्थानांतरण - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 13 February 2021

तबादले के बाद भी नहीं छूट रहा जिले का मोह, डेढ़ महीने पहले 64 उपनिरीक्षकों का गैर जिले किया गया था स्थानांतरण

राकेश सिंह गोण्डा 

तबादले के बाद भी नहीं छूट रहा जिले का मोह, डेढ़ महीने पहले 64 उपनिरीक्षकों का गैर जिले किया गया था स्थानांतरण

गोण्डा:लगभग डेढ़ माह पहले जिले में कार्यकाल पूरा करने वाले 64 उपनिरीक्षकों का गैर जनपद तबादला कर दिया गया था। इनमें से कई स्थानांतरित जिलों में आमद दर्ज करा दिए हैं लेकिन कौड़िया थानाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह जिला नहीं छोड़ना चाहते हैं। यही कारण है कि वह तबादला के बाद भी जमे हुए हैं।
विदित हो कि 26 दिसंबर 2020 को परिक्षेत्रीय पुलिस स्थापना बोर्ड की तरफ से लगभग 64 उपनिरीक्षकों को गैर जनपद स्थानांतरित कर दिया गया था। इसकी गश्ती जारी होने के बाद कई उपनिरीक्षक स्थानांतरित जिलों में आमद दर्ज करा दिए लेकिन कई उपनिरीक्षक परिक्षेत्रीय पुलिस स्थापना बोर्ड के आदेश को ठेंगा दिखाते हुए थानों पर जमे हुए हैं। जिले के कौड़िया थाने की बागडोर संभाल रहे उपनिरीक्षक मनोज कुमार सिंह के सामने भी स्थापना बोर्ड का आदेश हवा हवाई साबित हो रहा है। स्थानांतरण होने के लगभग डेढ़ माह बाद भी मनोज सिंह थाने का प्रभार संभाले हुए है। गौर करने वाली बात यह है कि पुलिस लाइन में सैंकड़ों योग्य निरीक्षक मौजूद होने के बाद भी एक उपनिरीक्षक को थाने का प्रभार सौंप दिया जाता है, जबकि उक्त थानाध्यक्ष के कार्यकाल में कौड़िया क्षेत्र में कई ऐसी घटनाएं घटित हुई हैं, जिससे जिला पुलिस की काफी किरकिरी हुई है।
दीपावली के दिन 15 नवंबर को थाना क्षेत्र कौड़िया में एक लड़की ने इसलिये आत्महत्या कर ली थी क्योंकि उसके साथ छेड़खानी की घटना होने के बाद भी आरोपी के विरुद्ध 151 की कार्यवाही कर उसे छोड़ दिया गया था। थाने से छूटते ही आरोपी ने फिर से लड़की से छेड़छाड़ कर धमकी दी, जिससे छुब्ध होकर लड़की ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। वहीं 21 अगस्त 2020 को कौड़िया थाना क्षेत्र के सहरिया कला में साम्प्रदायिक हिंसा का मामला हुआ था जिसमें पैसों के लेन-देन का मामला प्रकाश में आया था। इसकी जानकारी मिलते ही तत्कालीन पुलिस अधीक्षक ने चौकी प्रभारी दुबहा बाजार को सस्पेंड कर दिया था। 30 जनवरी 2021 को थाना क्षेत्र के एक गांव में चार साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया। इस घटना ने सबको झकझोर दिया था। वहीं 9 फरवरी 2021 को कौड़िया थाना क्षेत्र के सिसैया गांव में दिनदहाड़े 22 वर्षीय विवाहिता की गला रेतकर निर्मम हत्या के मामले से पूरे जिले में हाहाकार मच गया। इस मामले में नया मोड़ तब आ गया जब कथित प्रेमी का शव गुरूवार को एक पेड़ से झूलता हुआ पाया गया। इस घटना ने भी कौड़िया पुलिस को कटघरे में खड़ा कर दिया लेकिन इसके बाद भी दरोगा जी थानाध्यक्षी कर रहे हैं। सवाल यह उठता है कि आखिर दरोगाजी पर यह मेहरबानी क्यों?

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।