साहित्यिक महामूर्खों ने एक से एक हंसगुल्ले छोड़ा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 2 April 2021

साहित्यिक महामूर्खों ने एक से एक हंसगुल्ले छोड़ा

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

साहित्यिक महामूर्खों ने एक से एक हंसगुल्ले छोड़ा 

वाराणसी।महामूर्ख अप्रैल फूल महोत्सव में साहित्यिक महामूर्खों ने एक से एक हंसगुल्ले छोड़ा एवं विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों को भेंट किया गया "बाबा विश्वनाथ लोक गौरव सम्मान" वाराणसी महानगर के पहाड़िया, (नक्खीघाट) सारंग चौराहा स्थित एक लान में विश्वगुरु भारत परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री कवि इंद्रजीत तिवारी "निर्भीक" के प्रमुख संयोजन / संचालन में प्रख्यात समाजसेवी श्री प्रकाश कुमार श्रीवास्तव गणेश जी के प्रमुख संरक्षण में हास्य  ठहाका गुरु कवि नरेंद्र नाथ दुबे अडिग एडवोकेट के मार्गदर्शन में गदही दूल्हा और उल्लू दुल्हन का विवाह (विवाद) में अगले वर्ष तक के लिए स्थगित हो गया !  गदही दूल्हा का पक्ष रखते हुए ठहाका का गुरु कवि अडिग ने कहा कि पूर्व जन्म में मैं मानव थी !  जब से गदही कूल में आई हूं बहुत आत्म सुख पाई हूं ! लोग मानव कुल में रहकर भी गांधी जी का अपमान करते हैं मैं गधे ही कुल में लादी धोकर भी अपने कुल का सम्मान करती हूं गर्दभ स्वर में रचना सुनाकर गर्दभ स्वरमय माहौल हो गया !                         उल्लू दुल्हन का पक्ष रखते हुए कवि निर्भीक ने कहा कि उल्लू नहीं करता कभी उल्लूपन की बात उल्लूपने की बात उल्लूपने की बात करता है आदमी की जाति इसलिए उल्लू दिन में नहीं देखता है सिर्फ रात में सुनाकर उल्लू टाइप के श्रोताओं के चिट्चिटाहट से ठहाका गुज उठा ! ऐसा देखकर गदही दूल्हा और उल्लू दुल्हन ने अगले वर्ष तक के लिए अपना विवाह (विवाद) के कारण स्थगित कर दिया ! कवि हृदय नारायण मिश्र योगी के अध्यक्षता में महामूर्ख रसगुल्ला कवि सम्मेलन गर्दभ हुंकार और उल्लूओ की चित्कार के साथ प्रारंभ हुआ ! जिसमें प्रमुख रुप से सर्व श्री कवि गजेंद्र नारायण द्विवेदी शैलेश, सिद्धनाथ शर्मा सिद्ध, डॉक्टर दुर्गाशंकर श्रीवास्तव जी, कवि कमलेश विष्णु जिज्ञासु, अशोक श्रीवास्तव भुलक्कड़ बनारसी, चिंतित बनारसी ,  गोपाल जी केशरी, श्री नित्यानंद तिवारी ,संतोष कुमार प्रीत, मुनींद्र पांडे मुन्ना, जयप्रकाश धनापुरी, शिव प्रकाश साहित्य, विनय विश्वात्मा, रजनी अग्रवाल वाग्देवी रत्ना, श्री लता शास्त्री, श्रीमती संध्या श्रीवास्तव, श्रीमती सविता मिश्रा, श्रीमती झरना मुखर्जी, श्रीमती सुषमा जौनपुरी,श्रीमती सरोजिनी महापात्रा, श्रीमती सोनी जायसवाल आदि कवि कवियित्रीयों सहित मानव समाज के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों को बाबा विश्वनाथ लोक गौरव सम्मान आयोजन के प्रमुख संरक्षक श्री प्रकाश कुमार श्रीवास्तव गणेश जी, डॉक्टर सुभाष चंद्र, श्री राकेश चंद्र पाठक, स्वागताध्यक्ष श्री पवन कुमार सिंह एडवोकेट संयोजक श्री विजय कुमार गुप्ता ने भेंट किया  !    आगंतुकजनों का स्वागत स्वयंसेवी संस्था पूर्वांचल राज्य जनमोर्चा के संगठन प्रमुख श्री पवन कुमार सिंह एडवोकेट एवं धन्यवाद आभार अस्मिता नाट्य संस्थान के महासचिव श्री विजय कुमार गुप्ता ने व्यक्त किया !                  

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।